गौ हत्या को आम इंसान केवल संगठित होकर आसानी से कैसे रोक सकता है?

Stop Cow Killings

हम सभी गोमाता को यदि अपने ह्रदय से पूजते हैं तो उसे बचाने में भी हमें ही पहल करनी ही चाहिए।

गोहत्या तभी बढ़ रही है जब हममें से ही कोई गाय के दूध न देने पर उसको बोझ मान बाजार में बेचने निकल जाता हैं।

क्या आपने कभी यह सोचा है कि जिस अपनी प्यारी गाय को हम बेच रहे हैं, उसका खरीददार कौन होगा?

निश्चित ही कोई कसाई ही होगा।

यदि केवल चार या पांच गोभक्त एक-एक गाय को पालने का व्रत ले लें तो घर-घर में गाय होगी।

गोहत्या स्वयं बन्द हो जायेगी।

हमारे ऋषि-मुनियों को भी करोड़ों रूपये सम्मेलनों में करने के विपरीत केवल साधारण रूप से सत्संगों में अपने भक्तों को इस ओर प्रेरित करना चाहिए।

गाय को यदि हम वास्तव में गोमाता मानते हैं तो उसकी रक्षा करना हमारा परम कर्तव्य हो जाता है।

वैसे भी गाय की तो इतनी महिमा बताई गई है कि जिस घर में गाय का वास हो, उस घर से दुखः दरिद्रता स्वयं चली जाती है। यही नहीं, ऐसा भी कहा जाता है कि

गाय खड़ी जिस द्वारे, समझो उस घर कन्हैया पधारे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.